अनुच्छेद 370
समझें, आसान भाषा में
Paper Type: Black and white | Size: 216mm x 140mm; 136pp
ISBN-13: 978-93-89136-74-6

 295
 

अगस्त 2019 कोभारत सरकार नेजम्मू और कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशोंजम्मू और कश्मीरऔर लद् दाख के रूप में पुनर्गठित कियाजो कि 31 अक्टूबर 2019 से लागू हो गया। इसके पूर्वसंविधान का अनुच्छेद 370, जम्मू और कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा (स्पेशल स्टेटसप्रदान करता था।

भारतीय संसद के दोनों सदनों द्वारा जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन विधेयक,2019 के पारित करने के बादराज्य का विशेष दर्जा अभिनिषेद हो गया और भारतीय संघ के साथ यह और क़रीबी रूप में संगठित हो गयाइस पुस्तक के द्वारा भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 और 35A से संबंधित विषयों को स्पष्ट करने का प्रयास किया गया हैताकि पाठक इस महत्वपूर्णसंवैधानिकराजनीतिक और वैधानिक मसले पर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकें

इस पुस्तक की विशेषता इस तथ्य में निहित है कि लेखक नेपत्रिका शैलीशब्दजाल और कानूनी बारीकियों का त्याग करते हुएइसे साधारण और स्पष्ट भाषा में लिखा हैजिसकी वजह सेइसका विषयआम आदमी की समझ के लिए और भी आसान हो गया है।



Sumit  Dutt Majumder
Sumit Dutt Majumder
Author

Sumit Dutt Majumder, former Chairman, Central Board of Excise and Customs, joined the Indian Revenue Service in 1974, after his Masters in Physics from IIT Kharagpur. As Member (Central Excise) and then Chairman, CBEC, he was actively associated with the preparations for GST. 

He has been interacting with the trade across the country explaining the basics of GST. He presented his views to the Select Committee of Rajya Sabha on the GST Constitution Amendment Bill. On invitation, he interacted with Members of Parliament on GST. 

As Senior Advisor, International Tax and Investment Center, Washington, he has been addressing Asia Pacific Tax Forum and African Tax Dialogue on GST in India. The European Union (EU) appointed him for its project in India on Capacity Building in GST. 

He is the author of a book on customs valuation and two more books on GST.

डी. श्याम  कुमार
डी. श्याम कुमार
Translator

डी. श्याम कुमार, पिछले 23 वर्षों से पत्रकारिता और लेखन के क्षेत्र में सक्रिय हैं हिंदी और अंग्रेज़ी दोनों भाषाओं की लेखनी में सिद्धहस्त हैं। 2012 में इन्हें, छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा अंग्रेज़ी पत्रकारिता के लिए,राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के द्वारा, ‘मधुकर खेरराज्य अलंकरण से सुशोभित किया गया। वर्ष 2018 में इन्हें राष्ट्रीय हिंदी दिवस पर, बीबीसी में उत्कृष्ट रिपोर्टिंग के लिए, ‘लाडलीराष्ट्रीय पुरस्कार के द्वारा, सम्मानित किया गया। वे सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरन्मेंट, नेशनल फाउंडेशन ऑफ इंडिया और लाडली मीडिया के फेलो भी रहे हैं।