अवध के ज़ायके
शाही दावत से घर की रसोई तक का सफ़र
Paper Type: 130 gsm art paper (matt) | Size: 190mm x 176mm
All colour; 126 photographs
ISBN-10: 93-86906-84-7 | ISBN-13: 978-93-86906-84-7

 495

वध के ज़ायके: शाही दावत से घर की रसोई तक का सफ़र, राजमहलों से लेकर गलियारों में भोजन पकाने की कहानी है।

इस किताब में कई दशकों में तय हुआ एक अनोखा सामाजिक-सांस्कृतिक सफर का हुलिया है, जिसमें एक बहुत ही अलहदा क्षेत्रीय भोजन के इतिहास को चित्रांकित किया गया है जो खानदानों के किस्सों, स्थानीय त्योहारों, क्षेत्रीय संस्कृति और खाने की परम्पराओं के रंगों से भरा हुआ है।इसमें उन विशिष्ट घरानों की साठ से भी ज़्यादा पाकविधियाँ हैं, जहाँ इस अनोखी और पारम्परिक पाकशैली को सदियों से सँजो कर रखा गया है।

उत्तर भारत के हरे-भरे गंगा के मैदान में स्थित अवध क्षेत्र के भोजन का दरबार बहुत ही विशाल और विविध है और यहाँ की राजधानी लखनऊ के अपने बहुत ही ख़ास अदब है। बहुत ही उच्च कोटि का परिष्करण, तहज़ीब की एक गैरमामूली परंपरा और बहुत ही स्पष्ट सामाजिक कायदे और रिवाज इस कामयाब क्षेत्रीय पाकशैली की खासियत है। मध्य 14वीं और आरंभिक 18वीं शताब्दियों में जौनपुर के शर्क़ी सल्तनत और बाद में शुरुआती मुगलों ने इसकी तरबियत को समृद्ध किया। खुशबूदार मसाले, नायाब जड़ी-बूटियाँ, एक दुर्लभ सृजनात्मकता और एक रोमांटिक विचारधारा के साथ जब जातीय विलक्षणता और परंपराएँ जुड़ गईं तो भोजन और मेज़बानी की एक बहुत ही ख़ास किस्म की तख़्लीक़ हुई– पाकशैली की अवधी परम्परा।

जैसा कि कहावत है लखनऊ के पानी तक का स्वाद अलहदा है। पारम्परिक रूप से यह गर्मी के मौसम में मिट्टी के बर्तनों में रखा जाता था और अकसर इसमें पुदीने की पत्तियाँ मिला कर पीते थे और मौसम के साथ इसका रंग और स्वाद बदल जाता है। लम्बे नक्काशी किये हुए बर्तन में गुलाब की पंखुड़ियों को छिड़क कर इसे पेश किया जाता था। पानी देने के इस ख़ास तरीके से इस इलाके में खाने की आदतों में निहित सृजनात्मक जुनून की एक मिसाल देखने को मिलती है।



Salma Husain
Salma Husain
Author

Salma Husain is a passionate cook, food historian and a Persian scholar; she has used the language in exploring the history of food. Salma has worked with the Star Celebrity Chef Gary Rhodes from London for a British television serial and also with South Korean Television for their series on Indian food. She has appeared on Indian television with her feature Journey of Kabab, which has been telecast by Urdu TV as well. At present Salma is working as a consultant of Indian food with ITC Hotels. She writes articles and columns on food for popular journals and newspapers and has award-winning cook books to her credit. Salma received the National Tourism Award 2009 from the Vice-President of India Md. Hamid Ansari. Salma Husain lives in Gurgaon, Haryana. She enjoys cooking for her friends and does it with great love and passion.


सलमा हुसैन एक जानी-मानी पर्शियन स्काॅलर एवं कुक हैं जिन्होंने खाद्य पदार्थों के विषय-क्षेत्र में एेतिहासिक उपलब्धियाँ प्राप्त की हैं। सलमा स्टार सेलिब्रिटी शेफ गैरी रोड्स के साथ ब्रिटिश टीवी सीरियल के लिए लंदन में कार्य कर चुकी हैं, साथ ही भारतीय व्यंजन विषय पर दक्षिण कोरियाई टेलीविजन पर भी अपनी सेवाएँ दी हैं। भारतीय दूरदर्शन के माध्यम से भी वे ‘जर्नी अाॅफ कबाब’ फीचर में आ चुकी हैं, जिसका उर्दू टीवी द्वारा भी प्रसारण किया जा चुका है।

वर्तमान में सलमा आईटीसी होटल समूह के साथ भारतीय व्यंजन के कंसलटेंट के तौर पर अपनी सेवाएँ दे रही हैं। वे प्रायः पत्र-पत्रिकाओं में व्यंजन संबंधी आलेख व स्तम्भ लिखती रहती हैं तथा उनके द्वारा व्यंजन पर लिखी गई पुस्तक को पुरस्कार से नवाजा गया है।

वर्ष 2009 में सलमा को उपराष्ट्रपति मो. हामिद अंसारी द्वारा ने राष्ट्रीय पर्यटन अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है। सलमा हुसैन गुड़गाँव, हरियाणा की हैं। इन्हें अपने मित्रों के लिए विविध व्यंजन बनाना रुचिकर लगता है।

Poonam Mishra
Poonam Mishra
Translator

पूनम मिश्रा ने भौतिक विज्ञान में एम.एससी. की हैं और एमबीए की डिग्री प्राप्त हैं। भारत सरकार के सार्वजनिक उद्यम में अधिकारी रह चुकी हैं। अब वे स्वतंत्र रूप से लेखन और अनुवाद करती हैं। उन्होंने भारत सरकार के विज्ञान और टेनोलॉजी विभाग से सम्बद्ध ‘विज्ञान प्रसार’ और अन्य पत्रिकाओं के लिए कई अनुवाद किए हैं।